GILOY BENEFITS

HEALTH BENEFITS OF GILOY/ गुडुची 

(Tinospora cordifolia)

अमृता सांग्राहिक वातहर दीपनीयशलेषमशोणितविबंधप्रशमनानां (च०सू०२५)

Guduchi(Giloy) causes astringent effect, promote digestion and alleviate vata, kappa, constipation and raktapitta (a disease characterised by bleeding from different parts of body.

. गिलोय त्रिदोषज विकारों में प्रयोग होता हैं।घृत के साथ वात, शर्करा के साथ पित्त तथा मधु के साथ कफ में।
. कुष्ठ, वातरक्त आदि मे गिलोय से सिद्ध तेल लगाते हैं।
. जीणज्वर(chronic fever) तथा विषमज्वर में गिलोय का सवरस देते हैं।
. गिलोय रसायन कर्म में भी प्रयोग होता हैं।

. गिलोय का काण्ड(stem) इस्तेमाल करते हैं।

संभव ताज़ी गिलोय का ही प्रयोग करना चाहिए।

संग्रहकरना हो तो वर्षा के पूर्व छाया में सुखा कर रखना चाहिए)

गिलोय मात्रा:
क्वाथ——- 50 to 100 ml
चूर्ण———3 to 6gm
सत्व——— 1 to 2gm
www.medayurveda.com

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *